मोदी जी की कूटनीतिक सफलता : अफगानिस्तानियों ने पाकिस्तान के झंडे जलाए, भारत समर्थक नारे लगाए

0

पाकिस्तान अपने घरेलू मोर्चे पर जबरदस्त उथल-पुथल का सामना कर रहा है। एक तरफ बलूचिस्तान और PoK में उसके खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं वहीं अफगानिस्तान के प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा पर चमन के पास पाकिस्तान के झंडे जलाए और भारत के पक्ष में नारे लगाए। बताया जा रहा है कि इन प्रदर्शनकारियों ने चमन स्थित बाब-ए-दोस्ती द्वार पर हमला कर दिया और पाकिस्तानी झंडे जला दिए।

अपने देश का 97वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे अफगानी नागरिक बड़ी संख्या में सीमाई स्पिन बोल्दक शहर की सड़कों पर मार्च करने के बाद मैत्री द्वार के पास इकट्ठा हुए थे। उनके हाथों में बैनर और तख्तियां थीं,जिन पर पाकिस्तान विरोधी नारे लिखे थे। अफगान नागरिकों ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बलूचिस्तान संबंधी टिप्पणियों का पाकिस्तान द्वारा विरोध किए जाने के बाद भारत के पक्ष में नारे लगाए। अफगानीप्रदर्शनकारियों ने द्वार में जबरन घुसने की भी कोशिश की।

इस घटना से तिलमिलाए पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के साथ लगी अपनी सीमा अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दी है। इसके नतीजे में दोनों देशों के बीच व्यापार और सामानों की आवाजाही में लगे, अफगानिस्तान में नाटो बलों को जरूरी सामान की आपूर्ति करने वाले ट्रकों की आवाजाही रुक गई है। रोजाना 10,000 से 15,000 पाकिस्तानी और अफगानी व्यापारी, कारोबार के सिलसिले में सीमावर्ती शहरों में जाते हैं लेकिन मैत्री द्वार बंद होने से किसी भी ओर व्यापारी सीमा पार नहीं कर पाए।

पाकिस्तान के अधिकारियों ने फिलहाल संयम बरतते हुए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि अफगानिस्तान के साथ सटी सीमा अनिश्चितकाल के लिए बंद रहेगी। गेट तब तक नहीं खुलेंगे, जब तक उन्हें ऊपर से आदेश नहीं आता। दूसरी तरफ कनाडा से भी खबरें आ रही हैं कि वहां बलूच लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन किए हैं। बलूच लोगों में इतना ज्यादा गुस्सा भरा हुआ है कि वो कह रहे हैं कि उन्हें चाहे कुत्ता कह दो लेकिन पाकिस्तानी मत कहो।

Loading...

Leave a Reply