भारत ने वियतनाम को ब्रह्महोस का मिसाइल सपोर्ट दिया तो वियतनाम ने चीन की और तान दी अपनी ये मिसाइल

0

दक्षिणी चीन सागर में वियतनाम की आेर से मोबाइल रॉकेट लांचर भेजने की कथित योजना के प्रतिवाद के तौर पर चीन के कई विकल्पों पर विचार करने की खबरों के बीच सरकारी की मीडिया ने वियतनाम के कदम को ‘भयंकर गलती’ करार दिया और कहा कि हनोई को 1979 में दोनों देशों के बीच हुए युद्ध से सबक लेना चाहिए।

सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने एक लेख में कहा, ‘‘अगर वियतनाम की आेर से की गई ताजा तैनाती का निशाना चीन है तो यह एक भयंकर गलती है। हम आशा करते हैं वियतनाम इतिहास को याद रखेगा और उससे कुछ सबक लेगा।’’ उधर, वियतनाम के विदेश मंत्रालय ने रॉकेट लांचर की तैनाती संबंधी मीडिया रिपोर्ट को गलत बताया है।

खबर के अनुसार वियतनाम ने जो लांचर तैनात किए हैं वे चीन के रनवे और महत्वपूर्ण व्यापारिक मार्गों को निशाना बनाने में सक्षम हैं। दरअसल, चीन संपूर्ण दक्षिणी चीन सागर पर अपना दावा करता है, जबकि वियतनाम, फिलीपीन, मलेशिया, ब्रुनेई और ताइवान का भी इस पर दावा है।

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक न्यायाधिकरण ने इस पर चीन के दावे को खारिज करते हुए कहा था कि बीजिंग के पक्ष का कोई एेतिहासिक आधार नहीं है।

Loading...

Leave a Reply