तलाक तो नहीं दे दोगे , हलाला तो नहीं करवाना पड़ेगा, इसी डर में मुस्लिम महिलाओं की जिंदगी निकल जाती है

0

रजत शर्मा भारत के एक बड़े पत्रकार हैं, वो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में जाने जाते है, रजत शर्मा इंडिया टीवी के मालिक भी हैं और 9 बजे का शो भी करते है आज रजत शर्मा ने अपने कार्यक्रम में बड़ी भावुक बात कही, जो मुस्लिम समुदाय की निर्दयता को भी बताता है रजत शर्मा ने कहा की, देश में 22 करोड़ मुस्लमान है और उसमे से 2.5 करोड़ मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक से पीड़ित है पति कई कई शादियां कर लेता है, और ये महिलाएं पूरी जिंदगी बेबस रहती है

रजत शर्मा ने कहा की, मुस्लिम समाज ने अपनी महिलाओं को डराकर रखा हुआ है महिलाएं पूरी जिंदगी इसी डर में निकाल देती है की, दूसरी तो नहीं ले आओगे, गुस्से में तलाक तो नहीं दे दोगे, हलाला तो नहीं करवाना पड़ेगा सारी सारी जिंदगी, रोजाना इसी डर में अधिकतर मुस्लिम महिलाओं की जिंदगी जीती है

रजत शर्मा ने अपने इस कार्यक्रम में एक सुनीता नाम की हिन्दू महिला का भी किस्सा बताया जिसने प्रेम विवाह कर मुस्लिम से शादी किया था, और शबनम बन गयी थी, जब सुनीता को बच्ची हो गयी, तो उसके शौहर ने उसे तलाक दे दिया और 2 और शादियां कर ली, अब सुनीता कई सालों से बेटी को लेकर यहाँ वहां भटक रही है

रजत शर्मा ने कहा की, मुस्लिम समुदाय महिलाओं को तीन तलाक और हलाला से आज़ाद नहीं होने देना चाहता पर भारत जैसे लोकतांत्रिक और सभ्य देश में मुस्लिम महिलाओं को भी बराबरी का हक़ दिलवाना जरुरी हो चूका है

Loading...

Leave a Reply