सियाचिन में भयानक हालात का सामना करते हुए देश की रक्षा करने वाले भारतीय सेना के जवानों को सलाम

0

बर्फ से ढके सियाचिन को आप वैसे तो बर्फ का रेगिस्तान भी कह सकते है। हम पुरे देश को ये दिखाना चाहते कि किस तरह हमारे जवान कितने मुश्किल हालात में रहकर देश की रक्षा कर रहे हैं। 20,000 फुट की उंचाई में बसा सियाचिन में ऑक्सीजन की बहुत कमी है और एक आम आदमी के लिए वहां एक दिन भी जिंदा रहना बहुत मुश्किल है।

आगामी 15 अगस्त को पूरा भारत अपनी आज़ादी की 69वीं वर्षगांठ मनाएगा। इस खास और गौरवपूर्ण मौके पर आपको दुनिया की सबसे उंचे युद्ध क्षेत्र का दौरा कराते हैं, जिसे आप सियाचिन के नाम से जानते हैं। दुर्गम और कठिन हालात वाली यह जगह, इतनी उंचाई पर है कि यहां दूषित और देशविरोधी विचार कभी भी नहीं पहुंच पा

ऐसे में आप खुद सोचिये कि कैसे हमारे जवान सियाचिन में इतने मुशील हालात में आपके लिए, अपनी देश की रक्षा के लिए अपनी जान पर खेल कर डटे रहते हैं।

जो देश में असहनशीलता की बात करते हैं, ऐसे लोगों को हमारी चुनौती है कि वह एक दिन भी सियाचीन में बिता कर दिखाए। बुरहान वानी जैसे आतंकी को हीरो बनाने वाले लोगों को भी कुछ मिनट ज़रूर गुजारने चाहिए। कश्मीर के अलगाववादियों, पत्थरबाजों और पाकिस्तान के झंडे लहरा कर आज़ादी के नारे लगाने वालों को हमारी चुनौती है कि वह सियाचिन जैसे जानलेवा माहौल में कुछ समय गुज़ार कर दिखाए।

लेकिन हम जानते हैं की ये लोग ऐसा नहीं करेंगे। क्योंकि अगर ये ऐसा करेंगे तो इन आतंक प्रेमी गैंग की पोल खुल जाएगी।

Loading...

Leave a Reply