सबसे शर्मनाक तो ये है कि हमारे मॉडर्न लोग इस जैसे को अपना आदर्श मानते है

0

ये ऊपर की आप तस्वीर देख रहे हैं, ये शाहरुख़ खान है, बॉलीवुड का कुख्यात फिल्मबाज़ पाकिस्तान परस्त तो है ही, साथ ही आप इसके संस्कार और तमीज को भी देख सकते है

ये तस्वीर हाल ही की है, जब फिल्मबाज़ शाहरुख़ खान अपनी असामाजिक फिल्म “रईस” के प्रचार के लिए मुम्बई से दिल्ली तक ट्रैन में आया ट्रैन की सीट पर आप देख सकते है की शाहरुख़ खान किसी से फ़ोन पर बात कर रहा है, और उसके बगल में खाने का सामान रखा हुआ है, और वो उसी जगह पर अपनी जूते वाली लात रखे हुए है

आपको हम साफ़ करना चाहते है की, भले ही आपके पास दौलत बहुत हो जाए आप उस दौलत से खाना तो जितना मन उतना खरीद सकते हो, पर तमीज और संस्कार, सम्मान आपको किसी बाजार में नहीं मिलेगा, वो तो आपको अपने माता पिता और समाज से मिलता है और जिसे आप अपने बच्चों और आगे आने वाले समाज को देते है

हमारे भारत में खाने को सम्मान दिया जाता है, आज भी कई स्कूलों में खाने से पहले उसे नमन करना सिखाया जाता है, हालाँकि ये शिक्षा अब कम हो चुकी है, क्योंकि हमारा समाज अधिक मॉडर्न हो रहा है और समाज अधिक मॉडर्न इसलिए हो रहा है क्योंकि, आज हमारे समाज की एक बड़ी पीढ़ी के आदर्श इस जैसे फिल्मबाज़ है, अब शाहरुख़ खान की देखा देखि कुछ अधिक मॉडर्न यानि जाहिल तत्व तो इस तरह पोज देकर ही खाना शुरू करेंगे, ये वो बन्दर है जो केवल नक़ल कर सकते है आपने शाहरुख़ खान के संस्कार तो देख लिए न जाने ये अपने बच्चों को क्या सिखाता होगा

Loading...

Leave a Reply