अपनी उँगलियों को कुछ देर रगड़ कर शरीर का कोई भी दर्द खत्म किया जा सकता है

0

संवेदनशीलता की प्राचीन जापानी कला (Jin Shin Jyutsu method) के अनुसार, प्रत्येक उंगली विशेष बीमारी और भावनाओं के साथ जुडी होती है। हमारे हाथ की पांचो उंगलिया शरीर के अलग अलग अंगों से जुडी होती है |इसका मतलब आप को दर्द नाशक दवाइयां खाने की बजाए इस आसान और प्रभावशाली तरीके का इस्तेमाल करना करना चाहिए | आज इस लेख के माध्यम से हम आपको बतायेगे के शरीर के किसी हिस्से का दर्द सिर्फ हाथ की उंगली को रगड़ने से कैसे दूर होता है |

हमारे हाथ की अलग अलग उंगलिया अलग अलग बिमारिओ और भावनाओं से जुडी होती है | शयद आप को पता न हो , हमारे हाथ की उंगलिया चिंता , डर और चिड़चिड़ापन दूर करने की क्षमता रखती है | उंगलियों पर धीरे से दबाव डालने से शरीर के कई अंगो पर प्रभाव पड़ेगा |

अंगूठा

हाथ का अंगूठा हमारे फेफड़ो से जुड़ा होता है | अगर आप की दिल की धड़कन तेज है तो हलके हाथो से अंगूठे पर मसाज करे और हल्का सा खिचे | इससे आप को आराम मिलेगा |

तर्जनी 

ये उंगली आंतों gastro intestinal tract से जुडी होती है | अगर आप के पेट में दर्द है तो इस उंगली को हल्का सा रगड़े , दर्द गयब हो जायेगा

बीच की उंगली

ये उंगली परिसंचरण तंत्र तथा circulation system से जुडी होती है | अगर आप को चक्कर या आपका जी घबरा रहा है तो इस उंगली पर मालिश करने से तुरंत रहत मिलेगी

तीसरी उंगली

ये उंगली आपकी मनोदशा से जुडी होती है | अगर किसी कर्ण आपका मनोदशा अच्छा नहीं है या शांति चाहते हो तो इस उंगली को हल्का सा मसाज करे और खिचे ,आपको जल्द ही इस के अच्छे नतीजे प्राप्त हो जयेगे , आप का मूड खिल उठेगा

छोटी उंगली

छोटी उंगली का किडनी और सिर के साथ सम्बन्ध होता है | अगर आप को सिर में दर्द है तो इस उंगली को हल्का सा दबाये और मसाज करे , आप का सिर दर्द गयब हो जाये गा | इसे मसाज करने से किडनी भी तंदरुस्त रहती है |

Loading...

Leave a Reply