पाकिस्तान के विशेष दूत को स्विट्जरलैंड ने दुत्कार कर भगाया

0

कश्‍मीर मसले पर हर जगह से मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्‍तान की बेशर्मी जारी है। इस बार पाकिस्‍तान को कश्‍मीर मसले पर स्विट्जरलैंड में जलालत झेलनी पड़ी है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विशेष दूत ओवैस लेघारी स्विट्जरलैंड पहुंचे थे। लेकिन, स्विस सरकार ने नवाज शरीफ के इस विशेष दूत ओवैस लेघारी से मुलाकात तो दूर उन्‍हें मिलने के लिए अपॉइंटमेंट तक नहीं दिया। सूत्र बताते हैं कि ओवैस लेघारी यहां के बड़े कॉरपोरेट ग्रुप से भी मिलना चाहते थे लेकिन, उन लोगों ने भी मुलाकात से इनकार कर दिया। जिसके बाद पाकिस्‍तान को सिर्फ और सिर्फ नाकामी ही हाथ लगी। बताया जा रहा है कि ओवैस ने स्विस सरकार ने मुलाकात का अनुरोध किया था।

लेकिन, स्विस सरकार ने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विशेष दूत ओवैस लेघारी से मुलाकात में कोई दिलचस्‍पी नहीं दिखाई और पाकिस्‍तान के अनुरोध को ठुकरा दिया। स्विट्जरलैंड में हुई इस जलालत के बाद भी लेघारी यहां पर डटे हुए हैं। उन्‍हें अब भी उम्‍मीद है कि वो स्विट्जरलैंड-पाकिस्‍तान एसोसिएशन के पदाधिकारियों से मुलाकात कर पाएंगे। हालांकि ये मुलाकात भी अभी तय नहीं है। ये पाकवंशियों का समूह है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर बताया कि कि नेशनल असेंबली फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन ओवैस लेघारी जेनेवा और स्विट्जरलैंड की राजधानी बर्न के दौरे पर हैं। वो स्विट्जरलैंड में पाकिस्तानी कम्युनिटी के लोगों से मुलाकात करेंगे। वो कश्‍मीर मुद्दे को भी प्रमोट करेंगे।

पाकिस्‍तान विदेश मंत्रालय ने बताया कि ओवैस लेघारी विदेश में पाकिस्‍तान की संस्‍कृति और परंपराओं की छवि निर्माण के एजेंडे पर काम करेंगे। लेघारी ने स्विस में पाकिस्तानी कम्युनिटी के लोगों से मुलाकात की। लेघारी ने यहां पाकिस्‍तानी कम्‍युनिटी के लोगों से अपील की कि वो स्विट्जरलैंड में कश्मीर के मुद्दे को प्रमोट करें। दरअसल, पाकिस्तान पूरी दुनिया में कश्मीर मसले को उछाल हिंदुस्‍तान को घेरने की साजिश रच रहा है। पाकिस्‍तान ये प्रोपेगंडा कर रहा है कि कश्‍मीर में भारतीय सेना मानवाधिकारों का हनन कर रही हैं। इसी सिलसिले में वो स्विस सरकार से भी मिलना चाहता था। लेकिन, स्विस सरकार ने नवाज शरीफ के विशेष दूत को दुत्‍कार दिया है।

कश्‍मीर मसले को लेकर पाकिस्‍तान ने अपने सांसदों की एक टीम भी तैयार की है। पाकिस्‍तान के इन सांसदों को अलग-अलग देशों में कश्मीर का मुद्दा उठाने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। हालांकि पाकिस्‍तान के लोग ही प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के इस फैसले से खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि पाकिस्‍तान की जनता की खून-पसीने की कमाई नवाज शरीफ के सांसद घूमने और ऐश ओ आराम में उड़ा रहे हैं। इन पाकिस्‍तानी सांसदों पर आरोप लग रहे हैं कि ये लोग दूसरे देशों में कश्‍मीर मुद्दे को प्रमोट करने के नाम पर जा तो जरुर रहे हैं लेकिन, सिर्फ घूम कर और अय्याशी कर वापस लौट आ रहे हैं। जिससे पाकिस्‍तानी टैक्‍सपेयर्स का पैसा बेवजह उड़ाया जा रहा है। यहां के लोगों ने पैसों की इस बरबादी को रोकने की मांग की है।

Loading...

Leave a Reply