मेथी के दानों से बेहतर होगी वैवाहिक लाइफ मेथी का काढ़ा भी है DIABETES और BP में रामबाण

0

मेथी दाना, भारत के घर-घर में मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है लेकिन मेथीदाना का यह गुण सिर्फ हमारे आयुर्वेद में ही छुपा था कि यह सेक्स लाइफ को बेहतर बनाता है। फिर भी अपनी यौन क्रियाओं को बढ़ाने की इच्छा रखने वाले भारतीय पुरुष अक्सर पश्चिम के उत्पादों की तरफ देखते हैं। किंतु अब इसकी जरूरत नहीं है, क्योंकि इस भारतीय मसाले के बारे में विदेशों में सिद्ध हो गया है कि मेथी इसमें सक्षम है।

गौरतलब है कि भारत में कढ़ी और सब्जियों में इस्तेमाल की जाने वाली मेथी मुख्य तौर पर राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में उगाई जाती है। बालों के लिए भी मेथीदाना को गलाकर पेस्ट बनाकर उपयोग किया जाता है। इससे बाल मुलायम, काले और चिकने होते हैं। इसके साथ में ये पुरुषों के लिए अत्यंत लाभकारी है.
अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार मेथी के बीज में पाया जाने वाला सैपोनीन पुरुषों में पाए जाने वाले टेस्टोस्टेरॉन हॉरमोन में उत्तेजना पैदा करता है। स्वस्थ सेक्स लाइफ के लिए गुणकारी मेथी का प्रचलन इसे पढ़कर बढ़ तो सकता है लेकिन यह सावधानी जरूरी है कि अत्यधिक मात्रा में इसका सेवन न करें यह गर्म तासीर की वस्तु है। अधिक मात्रा में लेने से यह त्वचा के लिए नुकसानदायक हो सकती है।
शिशु के जन्म की प्रक्रिया को आसान करता है
मेथी शिशु के जन्म की प्रक्रिया को आसान बनाने में बहुत मदद करता है। यह शिशु के जन्म के समय गर्भाशय के संकुचन को बढ़ाकर जन्म की प्रकिया को आसान करने में मदद करता है। इसके कारण यह प्रसव वेदना को कम करने में अहम भूमिका निभाता है। लेकिन एक बात का ध्यान रखें गर्भधारण के अवस्था में अत्यधिक मात्रा में मेथी न खायें, इससे गर्भपात होने का खतरा बढ़ जाता है।
• स्तन के आकार को बढ़ाता है
अगर आप स्तन के छोटे आकार को लेकर शर्मिंदा महसूस करते हैं तो मेथी को अपने रोज के आहार में शामिल करें। इसका एस्ट्रोजेन हार्मोन स्तन के आकार को बढ़ाने में मदद करता है।

मेथी के बीजों का काढ़ा-
मेथी के बीजों का काढ़ा डायबिटिज और ब्लड प्रेशर के रोगियों को लाभ पहुंचाता है।
कभी-कभी रोगी कोलेस्ट्रॉल घटाने वाली एलोपैथिक दवाइयां नहीं सहन कर सकते। ऐसे में यदि वे चाय के पानी में थोड़ा-सा मेथी का काढ़ा डाल कर पिएं तो फायदा होगा।
कहा जाता है कि यदि गर्भावस्था में मेथी के बीज खाएं या इनका काढ़ा दो या तीन बार लें तो बच्चे के जन्म के बाद पर्याप्त मात्रा में शिशु को दूध मिलेगा और आप अपने शिशु को सही मात्रा में दूध पिला सकेंगी व दूध की कमी नहीं होगी। आइये हम आपको मेथी के बीजों का काढ़ा बनाने का एक आसान तरीका बतायें
चाय के दो चम्मच मेथी के बीज, एक प्याला पानी में उबालें। इसे दस मिनट तक धीमी आंच पर उबलने दें। अब इसे गैस से उतार लें। ठंडा होने के बाद यह काढ़ा दिन में तीन बार लें।
यदि आपको पथरी की शिकायत है तो सर्दियों में सुबह सबसे पहले मेथी के काढ़े वाला पानी पिएं। यह पथरी गलाने में मदद करता है।

Loading...

Leave a Reply