महबूबा मुफ्ती ने अनुच्छेद ३५ (A) को बचाने के लिए पीएम मोदी से लगायी गुहार

0
mehbooba-mufti-narendra-modi-allindiapost
mehbooba-mufti-narendra-modi-allindiapost

जम्मू-कश्मीर में संविधान के अनुच्छेद 35(ए) पर मचे घमासान के बीच राज्य की सीएम महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को दिल्ली में पीएम मोदी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद महबूबा ने साफ कहा कि उन्होंने अनुच्छेद 35 (ए) के मुद्दे पर राज्य के लोगों की चिंताओं से प्रधानमंत्री को अवगत कराया है। दरअसल, महबूबा चाहती हैं कि केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में 35(ए) को चुनौती देने वाली याचिका का विरोध करे।

महबूबा को इस मामले पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह से कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला है। दरअसल, उन्हें डर सता रहा है कि कि इस अनुच्छेद को निरस्त होने से कश्मीर की स्वायत्तता पर प्रतिकूल असर पड़ेगा और इससे पहले से ही विरोध प्रदर्शनों को झेल रहे कश्मीर के हालात बेकाबू हो सकते हैं।आपको बता दें, जम्मू-कश्मीर में पिछले साल स्थिति काफी खराब हो गई थी और अब धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है।

जिसके बाद 35 (ए) को लेकर बिना वजह की नई बहस शुरू कर दी गई है। महबूबा ने साफ कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री को ये बताया है कि राज्य बहुत ही गंभीर स्थिति से गुजर रहा है। महबूबा अपने राज्य के लोगों को आश्वस्त करना चाहती हैं, कि उनके विशेष दर्जे में किसी तरह की छेड़छाड़ नहीं होगी। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में संविधान के अनुच्छेद 35ए को चुनौती दी गई है और इसे निरस्त करने की मांग की गई है।

अदालत ने इस याचिका को स्वीकार करते हुए जम्मू-कश्मीर सरकार और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर अपना-अपना पक्ष रखने को कहा है। इस धारा के निरस्त होने के बाद जम्मू-कश्मीर सरकार की राज्य की नागरिकता तय करने का अधिकार समाप्त हो जाएगा। अभी तक गैर कश्मीरी भारतीय को वहां की नागरिकता मिलने पर प्रतिबंध है और वे वहां जमीन भी नहीं खरीद सकते हैं।

अनुच्छेद 35(ए) को चुनौती देने के खिलाफ महबूबा ने जम्मू-कश्मीर में भी राजनीतिक एकता बनाने की कोशिश में जुटी हुई हैं। इसी सिलसिले में उन्होंने बुधवार को अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी फारूख अब्दुल्ला से भी मुलाकात की थी।

Loading...

Leave a Reply