2,800,000,000 रूपये तो केजरीवाल ने केवल दारू के नए ठेके से कमाए थे, जो नोट बंदी के बाद कचरा हो गए

0

मीडिया इन बिंदुओं को नहीं उठती की पिछले 1 साल में दिल्ली में क्या हुआ है और दिल्ली सरकार ने क्या किया है

हम एक छोटा सा उदाहरण दे रहे है, दिल्ली के कड़कड़डूमा इलाके में “क्रॉस रिवर मॉल”

केवल इस 1 मॉल में पिछले 1 सालों में 17 जी हां 17 नए दारु के बड़े बड़े ठेके (दुकान) खुले है
इसी तरह दिल्ली के कोने कोने में पिछले 1 साल में केजरीवाल ने 400 नए दारू के ठेके खोलने के लाइसेंस दिए और आज वो सब ठेके दिल्ली में दारू बेच रहे है

औसतन हर ठेके के लाइसेंस के लिए 70 लाख रुपए लिए गए, जिसे मीडिया नहीं बता रही परंतु जानकारों को उसकी पूरी जानकारी है 1 ठेके के लिए 70 लाख की घूस ली है केजरीवाल सरकार ने और अगर 400 ठेको की बात करें तो, पिछले 1 साल में केजरीवाल ने केवल दारु के ठेके खोलकर

28,000,000,00 रुपए की कमाई की, और वो पूरी काली कमाई 1000 और 500 के नोटों में हुई, और इसी कमाई से आम आदमी पार्टी की राजनितिक गतिविधियां भी चलती रही जो 8 नवम्बर 2016 के बाद रुक गयी क्योंकि सारे नोट ही कचरा हो गए

केजरीवाल का पंजाब जाना बंद हो गया, गोवा गुजरात में AAP का प्रचार बंद हो गया, BMC चुनाव लड़ने का फैसला वापस हो गया, और यही कारण है कि नोटबंदी पर केजरीवाल लगभग अपना मानसिक संतुलन खो बैठा

Loading...

Leave a Reply