जो लोग कहते है कि आतंक का कोई मज़हब नहीं होता, वो आतंक का मजहब देख सकते है

0

भारत की सबसे बड़ी बीमारी कुछ और नहीं बल्कि सेकुलरिज्म ही रही इन लोगों ने कश्मीर की असली समस्या का आजतक जिक्र भी नहीं किया क्योंकि सेक्युलर तत्वों में हिम्मत ही नहीं की वो सच भी बोल सके अक्सर आसानी से कह दिया जाता है कि आतंक का कोई मजहब नहीं होता, हालाँकि येही सेक्युलर तत्व हिन्दुओ को बड़ी जल्दी आतंकी बताते है

पर अब्दुल पर अब्दुल पकडे जाते है, फिर भी आतंक का मजहब ये लोग नहीं बता पाए आप ऊपर देख सकते है ये है कश्मीर में आतंक फैलाता पत्थरबाज इसने मास्क जैसा कुछ लगाया हुआ है जिसपर ये इस्लाम जिंदाबाद लिखकर हमारे सैनिको पर पत्थरबाजी कर रहा है आतंक का मजहब क्या है और कश्मीर की असल समस्या क्या है इस तस्वीर से ये चीज आसानी से समझी जा सकती है।

 

Loading...

Leave a Reply