देखें वीडियो “इस्लाम ज़िंदाबाद” न बोलने पर बंगाल में हिंदूओं के साथ हो रही ऐसी हैवानियत

0

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में हुई हिंसक झड़प पर सारा देश चुप है और बुद्धिजीवी मीडिया को तो सांप सुंघ गया है। खबर है कि मिलाद-उन-नबी के अगले दिन कुछ मुस्लिम युवकों ने हिन्दुओं के घरों और दुकानों में आग लगा दी। पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, पश्चिमी मिदनापुर, हुगली और मालदा जिले अभी भी हिंसाग्रस्त हैं। 12 अक्टूबर को हिंसा की शुरुआत पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना ज़िले से हुई, जहां कथित तौर पर मुहर्रम के जुलूस में बम फेंका गया। जिसके बाद हिंसक भीड़ ने हिंदुओं के घरों को जला दिया और इस हिंसे की आग 5 ज़िलों में फैल गई।

पश्चिम बंगाल में फैली हिंसा को लेकर अकसर रोज नए नए वीडियो सामने आ रहे हैं। ऐसा हि एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें एक आदमी को मुस्लिमों ने इतना मारा है कि देखकर आपकी रूह तक काँप जाएगी। इस आदमी को इसलिए मारा गया क्योंकि यह हिंदु है और पश्चिम बंगाल का निवासी है।

ममता बनर्जी का कानून कुछ समझ नहीं आता। अगर बिहार में लालू यादव के राज में हो रही हिंसा और अपराध को देखते हुए बिहार को जंगलराज घोषित किया जाता है तो बंगाल के हाल को देखते हुए दीदी का राज दंगा राज बनता जा रहा है। इस बात से कोई अंजान नहीं है कि ममता का रिश्ता इस्लामिक संगठनों से रहा है। इस बात के भी कई सबूत मिले हैं जिससे साफ पता चलता है कि टीएमसी बांग्लादेशी आतंकी संगठनों को फंड देती है। सवाल यह उठ रहा है कि क्या पश्चिम बंगाल की सरकार जानबूझकर, एक विशेष समुदाय को खुश करने के लिए या मुस्लिम तुष्टीकरण के लिए कानून-व्यवस्था की अनदेखी कर रही है? या फिर यह मान लिया जाए कि पश्चिम बंगाल सरकार सब कुछ जानते और समझते हुए भी कानून व्यवस्था बनाए रखने में फेल हो गई?

Loading...

Leave a Reply