इंडियन आर्मी का कहर 23 पाक चौकियां तबाह 31 रेंजरों के मारे जाने की खबर

0

पाकिस्तान की कारस्तानी का जवाब तो पहले से दिया जा रहा है। अब महज उस जवाब में धार तेज हो गई है। बातों का दौर खत्म हो गया है। गोली का जवाब बम और धमाकों से दिया जा रहा है। दिवाली के मौके पर जहां पूरे देश में आतिशबाजी हो रही है। वहीं सीमा पर भी धणाकों का शोर हो रहा है। ये धमाके इंडियन आर्मी की तरफ से हो रहे हैं। सेना ने आम लोगों की तरह छोटे मोटे बम फोड़कर दिवाली नहीं मनाई। उन्होने अपने शहीद साती की मौत का बदला लेकर बड़ा धमाका किया है। शहीद मंदीप सिंह का आज अंतिम संस्कार किया गया। उसके अंतिम संस्कार से पहले ही उसकी शहादत का बदला ले लिया। शनिवार रात को भारतीय सेना ने पाकिस्तान की 4 चौकियों को तबाह कर दिया था।

पाकिस्तान की चार चौकियों को तबाह करने के बाद भी इंडियन आर्मी के कदम नहीं रुके। बंदूकों की नाल पिछलते लोहे की तरह गरम हो गई लेकिन फिर भी गोलियां चलती रही। ताजा समाचार मिलने तक सीमा पार पाकिस्तानी इलाके में विनाश का मंजर हर तरफ फैला हुआ है। अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना ने अब तक पाकिस्तान की लगभग 23 चौकियों को नेस्तनाबूत कर दिया है। इसके अलावा अब तक कुल 31 पाकिस्तानी रेंजरों के भी मारे जाने की खबर है। ये भारतीय सेना का कहर है, गुस्सा है, जो अपने साथी के शव को क्षत-विक्षत करने के बाद उपजा था। सीमा पर तैनात हर सैनिक इस समय गुस्से का प्रतिमूर्ति बना हुआ है। आंखों में खून सवार है। बस एक लक्ष्य है कि पाकिस्तान के आतंकियों का वो हाल करना है कि वो दोबारा हिंदुस्तानी सरजमीन की तरफ देखने का हौसला न जुटा सकें।

पाकिस्तान ने केरण सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन किया, उसके बाद भारतीय सेना ने जो एक्शन लिया उस से पाकिस्तानी खेमे में हाहाकार मच गया। इंडियन आर्मी ने चुन-चुन कर पाकिस्तान की गोलियों का जवाब दिया। पाक रेंजर्स अपनी जान बचाकर चौकियों को छोड़कर भाग खड़े हुए। पाकिस्तान सीजफायर की आड़ में आतंकियों की मदद करता है। इंडियन आर्मी ने जिन चार पाकिस्तानी चौकियों को तबाह किया उनका इस्तेमाल पाकिस्तान आतंकियों को कवर देने के लिए करता था। उन्ही आतंकियों ने शुक्रवार को शहीद मंदीप कुमार के शव को क्षत-विक्षत कर दिया था। उसके बाद से पूरे देश में गुस्से की लहर है। भारतीय सेना भी गुस्से में भरी हुई है। उसे इंतजार था कि पाकिस्तान अगली गलती करे औऱ उसे मजा चखाया जाए। बता दें कि सीमा पर पाकिस्तान एक तरह से छद्म युद्ध लड़ रहा है। वो लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है।

पाकिस्तान की इसी हरकत का जवाब इस बार सेना ने पुरजोर तरीके से दिया है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हमारे जवान देश की सीमाओं की हिफाजत कर रहे हैं। इसलिए देशवासी दिवाली मना पा रहे हैं। हम अपनी आर्मी के साथ खड़े हैं। पाकिस्तान की अब उसी की भाषा में जवाब देने की शुरूआत हो चुकी है। जो खेल पाकिस्तान ने शुरू किया है उस खेल में उसकी तबाही निश्चित है। तबाही और विनाश का ये खेल अब आतंकियों को समूल नाश के बाद ही खत्म होगा। मोदी सरकार ने भी सेना के हाथ खोल रखे हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले ही बीएसफ ने कहा था कि हमारे किसी भी जवान को छुआ तो पाकिस्तान को उसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। बीएसएफ की बात सही साबित होती दिख रही है। पाकिस्तान की 23 चौकियों को तबाह किया गया है। मंदीप कुमार के अंतिम संस्कार के बाद अब जाकर उसकी शहादत का बदला पूरा हुआ है। लेकिन खेल अभी खत्म नहीं हुआ है।

 

Loading...

Leave a Reply