हिन्दू गद्दारों को ही सेक्युलर कहा जाता है, इनकी लाश को जलाने से अच्छा चील को खिलाना चाहिए

0

1 अस्पताल या स्कुल बनाने से क्या होगा कुछ लोग पढ़ेंगे, इलाज होगा पर 1 भव्य मंदिर अयोध्या में बनने से क्या होगा, आस्था और स्वाभिमान को तो साइड में रखिये अयोध्या ही नहीं आसपास टूरिज्म बढ़ेगा, होटल खुलेंगे, बस, रिक्शा, हो सकता है हवाई अड्डा भी खुल जाये, रोड बन जायेंगे, भयानक विकास होगा, रोजगार मिलेगा

दूसरी चीज, राम मंदिर भव्य होगा, लोगों की आस्था है, करोडो का चढ़ावा आएगा, देखते ही देखते कई ऐम्स, IIT खुल जौएंगे, और बहुत सारी चीजें होंगी पर हमारे मूढ़ सेक्युलर तत्व इनको जितना अपशब्द कहा जाये कम है

आपने कभी किसी मुसलमान को नहीं देखा होगा की वो कहे “मस्जिद की जगह स्कुल कॉलेज खुलवा दो, अस्पताल बनवा दो” पर मूढ़ सेक्युलर राम मंदिर की जमीन पर अस्पताल खुलवाने के लिए मरे जा रहे है ये न केवल हिन्दुओ से नफरत करने वाले घृणित तत्व है बल्कि ये पाखंडी मुर्ख भी बहुत बड़े है

मंदिर बनने से रोजगार आएगा, विकास होगा, टूरिज्म बढ़ेगा आपको बता है दुनिया का सबसे धनि देश है स्विट्ज़रलैंड, वहां प्रति व्यक्ति आमदनी बहुत है वहां का मुख्य व्यापार ही टूरिज्म का है, मंदिर न केवल आस्था के लिए जरुरी है, बल्कि इलाके विकास के लिए तो और अधिक जरुरी है

सेक्युलर तत्व हिन्दुओ से घृणा करना छोड़ कर अपने अक्ल का इस्तेमाल करने की कोशिश करे, वैसे उनके पास अक्ल है नहीं, इसलिए सेक्युलर तत्वों से अच्छी चीजों की उम्मीद करना भी बेमानी है

वैसे सेक्युलर तत्वों को हम भी अपनी सलाह देना चाहेंगे की मरने के बाद ये अपनी लाशों को जलाएं नहीं, और न ही दफनायें बल्कि चील कौवों को खिलाएं ताकि उनका पेट भरे, चील कौवों का तो भला हो

Loading...

Leave a Reply