गजवा हिन्द” मुसलमानों का उद्देश्य है, जिसे हर भारतीय को समझना चाहिए : तारिक फतह

0

जिन लोगों को ये जानकारी है की, पाकिस्तान के स्कूलों में सोशल स्टडीज की किताबों में क्या पढ़ाया जाता है, वो लोग इस शब्दावली यानि “गजवा हिन्द” को भली भाँती जानते होंगे

आज भी पाकिस्तानियों का सपना है की, दिल्ली में फिर से मुग़ल काल लाएंगे, और भारत को गजवा हिन्द यानि दारुल इस्लामिक इलाका बनाकर राज करेंगे, इस्लाम के अलावा सभी धर्मो को ख़त्म किया जाएगा और बिलकुल इराक, ईरान, अफगानिस्तान जैसा बनाया जायेगा यानि शरिया से युक्त इस्लामिक राष्ट्र

बता दें की ईरान पहले पर्शिया के नाम से जाना जाता था, वहां केवल पारसी और हिन्दू लोग रहते थे, इस्लाम के आगमन के बाद अब ईरान 99% इस्लामी राष्ट्र हो गया, और वर्षों पुराना पर्शिया तो शब्द ही लुप्त हो गया

उसी तरह मेसोपोटामिया था, जहाँ सिकंदर की भी मौत हुई थी वो मेसोपोटामिया आज इराक के नाम से जाना जाता है, इस्लाम के आगमन के बाद वहां से अन्य पंत के लोगों को साफ़ कर दिया गया, धर्मान्तरित किया गया, अन्य इस्लामिक देशों का भी यही इतिहास है ये पहले अन्य धर्मो के इलाके थे, आज इस्लामिक देश है

तारिक फतह पाकिस्तान में पैदा हुए, और वहां ही पढाई लिखाई की, तारिक फतह अच्छे से जानते है की पाकिस्तान में क्या पढ़ाया जाता है, पाकिस्तानियों की क्या मानसिकता है, और उनका क्या उद्देश्य है तारिक फतह इसपर कई लेख भी लिख चुके है

ये जो ऊपर हमने जितनी भी चीजें आपको बताई वो तारिक फतह के लेख से ही लिया हुआ है “गजवा हिन्द” जो की एक इस्लामिक उद्देश्य है, गजवा हिन्द मुसलमानो का उद्देश्य है, और तारिक फतह का कहना है की सभी भारतियों को इस बारे में जानना चाहिए

चूँकि भारत दुनिया की सबसे पुरानी संस्कृति है, जिसे बहुत हद तक ख़त्म किया जा चूका है अफगानिस्तान से लेकर इंडोनेशिया तक भारत था, आज भारत केवल 10% बचा है, 1947 में ही पूर्वी पाकिस्तान और पश्चिमी पाकिस्तान बनाकर 33% भारत को ख़त्म कर दिया गया और अगर बचे हुए भारत के लोग गजवा हिन्द जैसी इस्लामिक उद्देश्य के बारे में नहीं जानेंगे तो भारत भी पर्शिया या मेसोपोटामिया जैसा इतिहास का एक शब्द मात्र बनकर रह जायेगा

Loading...

Leave a Reply