अयोध्या जी में मस्जिद थी ही नहीं. मंदिर था, मंदिर गिराया गया, मंदिर ही बनेगा – दिग्विजय सिंह

0

राम मंदिर पर दिग्विजय सिंह का रुख पूरी तरह बदल गया है और उन्होंने एक बेहद सनसनीखेज बयान दिया है .
गोटेगांव में परमहंसी आश्रम पहुंचे कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन पर कभी मस्जिद थी ही नहीं। उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद ने जिसे मस्जिद बताकर गिराया था वो मंदिर था और इसके प्रमाण भी मिले है।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि बीजेपी मंदिर निर्माण कराना ही नहीं चाहती है। उन्होंने बताया कि 1996 में कांग्रेस सरकार बन जाती तो मंदिर निर्माण हो गया होता। पूर्व प्रधानमंत्री नरसिंम्हा राव ने राम मंदिर निर्माण की रूपरेखा तैयार कर ली थी।

इस मौके पर गौ-हत्या पर भी दिग्विजय सिंह ने बयान दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस गौ-हत्या के खिलाफ है। वो चाहते है कि देशभर में गौ-हत्या बंद हो। लेकिन इस मामले में बीजेपी का दोहरा चरित्र है। दिग्विजय ने कहा कि केरल में बीजेपी नेता ने मतदाताओं से कहा है कि वो उन्हें जिता देंगे तो उनके लिए अच्छे बीफ की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा गोवा, अरूणाचल और मणिपुर में बीजेपी की सरकार है, तो फिर वहां गौ-हत्या क्यो हो रही है।

परमहंसी आश्रम पहुंचे एमपी के पूर्व सीएम दिञविजय सिंह ने ईवीएम मशीन की निष्पक्षता पर खड़े किए सवाल करते हुए उसे बीजेपी की साजिश बताया वही बैलेट पेपर से मतदान करने की वकालत की।

योगी सरकार द्वारा राम मंदिर निर्माण को छलावा बताते हुए विवादित बयान देते हुए कहा कि विश्व हिंदू परिषद के लोगो ने बाबरी मस्जिद को नही गिराया था बल्कि वहां कभी मस्जिद थी ही नहीं जो गिरेगा गया वह मंदिर ही था यदि 96 में भी नरसिंहा राव के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनती तो तभी मंदिर निर्माण हो गया होता।

लगता है दिग्विजय सिंह ने हिन्दू एकता के सामने घुटने टेक दिए हैं और अब वोटों के लालच में वे राम राम करने लगे हैं लेकिन क्या हिन्दुओं को उनका विस्वाश करना चाहिए ?

दरअसल जब से बीजेपी नेता सुब्रमनियम स्वामी कहा है कि मंदिर तो हम कानून बदलकर बना लेंगे तब से सबकी बत्ती गुल हो गयी है और सालों से विरोध करने वाले अब समर्थन करके फायदा लेना चाहते हैं .

Loading...

Leave a Reply