डायलिसिस, कैंसर जैसी भयंकर बीमारी में रामबाण नुस्खा

0

अगर आपके या आपके घर के आसपास कोई किडनी या कैंसर या ऐसी कोई लाइलाज बीमारी से ग्रसित है तो ये घरेलु उपाय उनके लिए अमृत सिद्ध होगा। इस उपाय को एक से तीन महीने तक करे और फिर रिजल्ट देखें। ये प्रयोग करने से डायलिसिस, अनेक प्रकार के कैंसर, रक्त में हीमोग्लोबिन और प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए और रक्त में श्वेत कोशिकाओ (W.B.C.) की संख्या बढ़ाने के लिए रामबाण है। आइये जाने ये नुस्खा।

गेंहू के जवारे (गेंहू घास) का रस

गिलोय(अमृता) का रस

गेंहू की घास को धरती की संजीनी के समान कहा गया है, जिसे नियमित रूप से पीने से मरणासन्न अवस्था में पड़ा हुआ रोगी भी स्वस्थ हो जाता है। और इसमें अगर गिलोय(अमृता) का रस मिला दिया जाए तो ये मिश्रण अमृत बन जाता है। गिलोय अक्सर पार्क में या खेतो में लगी हुयी मिल जाती है।

गेंहू के जवारों का रस 50 ग्राम और गिलोय (अमृता की एक फ़ीट लम्बी व् एक अंगुली मोटी डंडी) का रस निकालकर – दोनों का मिश्रण दिन में एक बार रोज़ाना सुबह खाली पेट निरंतर लेते रहने से डायलिसिस द्वारा रक्त चढ़ाये जाने की अवस्था में आशातीत लाभ होता है।

इसके निरंतर सेवन से कई प्रकार के कैंसर से भी मुक्ति मिलती है। रक्त में हीमोग्लोबिन और प्लेटलेट्स की मात्रा तेज़ी से बढ़ने लगती है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत बढ़ जाती है। रक्त में तुरंत श्वेत कोशिकाएं (W.B.C.) बढ़ने लगती हैं। और रक्तगत बिमारियों में आशातीत सुधार होता है। तीन मास तक इस अमृतपेय को निरंतर लेते रहने से कई असाध्य बीमारियां ठीक हो जाती हैं।

इस मिश्रण को रोज़ाना ताज़ा सुबह खाली पेट थोड़ा थोड़ा घूँट घूँट करके पीना है। इसको लेने के बाद कम से कम एक घंटे तक कुछ नहीं खाएं।
उदयपुर के पास के गाँव में एक वैद श्री पालीवाल जी का अनुभव है के नीम गिलोय की तीन अंगुली जितनी डंठल को पानी में उबालकर, मसल छानकर पीते रहने से डायलिसिस वाले रोगी को बहुत लाभ मिलता है।

Loading...

Leave a Reply