घोटालेबाज कांग्रेस सरकार ने भारतीय सैनिकों को रुला ही दिया था, रो पड़े थे वायु सेना के पायलट

0

ये खबर 2012 की है बहुत से भारतीयों के जहन में होगी बहुत से लोग भूल चुके होंगे परंतु आज भी इस खबर का महत्त्व बहुत है ताकि देश को जानकारी मिल सके की, हमारी सरकारों ने हमारे सैनिको के साथ क्या बर्ताव किया फिर भी हमारे सैनिक कभी हड़ताल पर नहीं गए, कभी कोई शिकायत नहीं की वो लड़ते रहे और देश की सुरक्षा करते रहे

2012 का साल UPA-2 सरकार चल रही है, जमीन से लेकर आसमान तक घोटाले ही घोटाले हो रहे थे, कभी कोयला, कभी 2जी, कभी कांग्रेस के जीजा जी भारत को पूरा अंदर तक ही चूसा जा रहा था, मनमोहन सिंह दिल्ली के होटलों में 8000 रुपया पर प्लेट की पार्टियां किया करते थे

2012 में देश के रक्षामंत्री थे सोनिया गाँधी के बेहद करीबी (क्योंकि ईसाई है) अंटोनी साहब, अक्टूबर 2012 में रक्षामंत्री ने सभी अंगो को निर्देश दिया की फ्यूल के खर्चो में 20-40 फीसदी की कटौती तुरंत करे क्योंकि सेना बहुत तेल खर्च कर रही है जिस से देश पर बोझ आ रहा है

आप सोच सकते है की सेना के तेल से इस सरकार को देश पर बोझ महसूस हो रहा था, घोटालो से नहीं रक्षामंत्रालय के इस फरमान के बाद हमारी वायु सेना में तो खासतौर पर बेचैनी देखि गयी, सुखोई जैसे लड़ाकू विमान उड़ाने वाले हमारे वायु सेना के पायलट तो इतने बेचैन हुए की कई पाइलटों के रोने तक की खबर आयी, पाइलटों का कहना था की “क्या अब लड़ाकू जहाज आधे ईंधन के साथ उड़ाने होंगे”

तत्कालीन थल सेना प्रमुख वीके सिंह ने इसका विरोध भी किया और इन्ही कारणों से UPA-2 सरकार को उनसे समस्या आ गयी और बाकि सबकुछ तो आप जानते ही है, सुप्रीम कोर्ट तक ये मामला गया था

सेना ने UPA-2 सरकार से विरोध जताया की, हमारी 15000 किलोमीटर की लंबी सीमा है क्या अब वह सैनिको को रात में जनरेटर चलाने के लिए डीजल नहीं मिलेगा, क्या सेना अपने गाड़ियों को बंद कर दे फिर देश की सुरक्षा किस प्रकार की जाएगी

इस तरह सेना को हमारी UPA-2 ने एकदम रुला के रख दिया, बाद में उठापटक के बाद ये फरमान रक्षामंत्रालय ने वापस ले लिया परंतु इस घटना से आप सोच सकते है की हमारी सरकारे सेना और सैनिको को क्या समझती है ये लोग 8000 रुपए की थाली में कटौती नहीं कर सकते, घोटाले नहीं रोक सकते परंतु सेना के तेल को रोकना चाहते थे उसमे 40% की कटौती चाहते थे

ये लोग चाहते थे की कश्मीर में रात के अँधेरे में सेना जनरेटर भी न चलाये क्योंकि तेल बर्बाद होता है जनता को ये सब चीजे हमेशा याद रखने की जरुरत है क्योंकि हमारे देश की जनता की सबसे बड़ी समस्या ही यही है की वो अक्सर चीजो को भूल जाती है

Loading...

Leave a Reply