बॉर्डर की ओर बढ़ी भारतीय स्ट्राइकिंग फ़ोर्स, पाकिस्तानी रेंजर्स भागे, सकपकाई पाक सेना की छुट्टियां रद्द

0

जैसे-जैसे पाकिस्तान विश्व बिरादरी में मुंह की खाता जा रहा है वैसे-वैसे भारत सीमा पर पाकिस्तान की मुश्कें कसता जा रहा है। भारत ने पूर्वी मोर्चे जम्मू-कश्मीर के अलावा पश्चिमी सीमा पर भी एलर्ट कर दिया है।

स्ट्राइकिंग फोर्स को कभी भी मार्चिगं के लिए तैयार रहने के आदेश दे दिये गये हैं, तथा भारतीय टैंक भी सीमा पर पहुच चुकी है, जम्मू कश्मीर बॉर्डर पर भी बड़ी तोपें तैनात कर दी गयी है  सरकार का ताजा रुख को दखते हुए सभी मोर्चों पर वायु सेना ने भी पूरी तैयारी कर ली है।

वायु सेना के जाबांज पायलट आदेश मिलने के बाद महज तीन मिनट के भीतर दुश्मन को जहन्नुम के दरबाजे तक पहुंचाने के लिए तैयार हैं। पाकिस्तान को अलग-थलग करने और उसे आतंकवाद का असली पालने-पोषने वाला घोषित कराने की कूटनीति भी कारगार हो रही है।

संयुक्त राष्ट्र की जनरल असैंबली में सियापा करने से पहले नवाज शरीफ ने वीटो देशों के आगे घड़ियाली आंसू बहाने की कोशिश की। लेकिन किसी एक ने भी उनकी बात सुनने से इंकार कर दिया।

यहां तक की पाकिस्तान के सदाबहार दोस्त चीन ने भी कहा है कि उरी घटना बहुत दखद है। चीन ने पाकिस्तान का नाम तो नहीं लिया, लेकिन अप्रत्क्ष तौर पर घाटी में आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तान को कसूरवार माना है।

फ्रांस और रूस ने पाकिस्तान का साफ तौर पर नाम लेकर निंदा की और भारत के साथ हर कदम पर साथ देने का ऐलान किया। इसके अलावा भारत के रुख को समर्थन देने वाले देशों अमेरिका, जर्मनी और ब्रिटेन के अलावा जापान भी हैं।

अफगानिस्तान, नेपाल, कनाडा, श्रीलंका, भूटान, सऊदी अरब,साउथ कोरिया ने कहा है कि वो आतंक के खिलाफ भारत के रुख का समर्थन करते हैं। संयुक्त अरब अमीरात, क़तर, बहरीन और मंगोलिया समेत तमाम देशों ने उरी आतंकी घटना की निंदा और भारत के साथ सहानुभूति जताई है।

Loading...

Leave a Reply