भूलकर भी इन जगहों पर न बनाएं शारीरिक संबंध वास्तु शास्त्र में माना गया है महापाप

0

वास्तुशास्त्र में हमारे जीवन से सबंधित कई ऐसे बातें बताई है। जिनका पालन करने से आपके घर में सभी नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है। जो कि हमें सही दिशा में जीवन जीने की दिशा प्रदान करती है। ऐसे ही कुछ नियम शारीरिक संबंध को लेकर बताएंगे। पति-पति के बीच संबंध बुरे नहीं हैं, अपितु पवित्र माने गए हैं। यही कारण है कि वास्तु शास्त्र ने इन्हें विशेष नियमों में बांधा है। जानिए वास्तुशास्त्र के अनुसार ऐसी कौन सी जगह है। जहां पर शारिरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए, नहीं तो आपके लिए नुकसानदेय सबादित हो सकते है। जानिए ऐसी जगहों के बारें में

नदी के पास
शास्त्रों के अनुसार कभी भी नहीं के पास संबंध नहीं बनाना चाहिए, नहीं तो ये झगड़े की वजह बन जाती है। इसका उदाहर आपको ऋषि पराशर एवं सत्यवती के रिश्ते से समझ आ जाएगी। जिसने महाभारत युद्ध को जन्म दिया था।

आग के पास
कभी भी अग्नि के पास शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए। अग्नि को देवता माना गया है। जो कि सबसे पवित्र मानी जाती है। इसके करीब संबंध बनाना महापाप माना गया है।

आस-पास हो ऋषि-मुनि या ब्राह्मण
अगर आपके पास ऐसे लोग हो या फिर कोई महान पुरुष हो जिन्हें आप अपना आदर्श मानते है। उस जगह पर भूलकर भी शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए।

बीमार व्यक्ति के आसपास
एक छत के नीच, एक ही घर में यदि कोई ऐसा व्यक्ति हो जो मृत्यु की कगार पर आ खड़ा हुआ है, तो ऐसी जगह पर शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए।

नवजात हो जहां पर
पति-पत्नी को ऐसी जगह शारीरिक सबंध बनाने सेबचना चाहिए। जहां पर नवजात बच्चा हो। इससे गलत असर पड़ता।

मंदिर
यह बताने की जरुरत नहीं है कि मंदिर जैसी पवित्र जगह पर भूलकर भी संबंध नहीं बनाना चाहिए। इसे महापाप माना जाता है।

कब्र के पास
ऐसी जगह जहां कोई कब्र हो, वहां शारीरिक संबंध बनाना महापाप है। इन जगहों से निकलने वाली बुरी ऊर्जा पति-पत्नी के रिश्ते को तबाह कर सकती हैं।

मृत शव के पास
कब्र के अलावा किसी मृत शव के पास भी शारीरिक संबंध बनाना पाप है। यदि किसी घर में परिवार के सदस्य की मृत्यु के बाद, शव को लाया गया हो, तो जब तक वह शव घर से बाहर नहीं चला जाता, तब तक ऐसा न करें।

Loading...

Leave a Reply