भीम आर्मी निकली जिहादी आर्मी : कोई दलित नहीं भीम आर्मी के पीछे है हाजी इक़बाल

0

आज ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था की, सहारनपुर में जो दंगा हो रहा है वो रिमोट कण्ट्रोल से चलाया जा रहा है बता दें की इसी सहारनपुर में पिछले दिनों आंबेडकर जयंती के दौरान मुस्लिमो ने दलितों को आंबेडकर जयंती नहीं मानाने दिया, और आंबेडकर जुलुस पर मुस्लिमो ने हमला किया, पर उस समय कहीं नहीं थी कोई “भीम आर्मी”

और अचानक से खबर आयी की दलित और राजपूत सहारनपुर में लड़ रहे है और दलितों ने एक रातों रात संगठन बना दिया “भीम आर्मी” यानि ये जो भीम आर्मी है वो दलितों का संगठन है पर अब आपको कुछ बातें हम बताने जा रहे है, जो आपको स्तब्ध कर देंगी, हमारी मीडिया ये बातें नहीं बता रही है क्यूंकि मीडिया भी कहीं न कहीं दलित-राजपूत का मुद्दा बनाकर हिन्दुओ को तोड़ने में लगी हुई है

बता दें की 23 मई 2017 को मायावती ने सहारनपुर में रैली की, इसी के बाद यहाँ फिर दंगा हो गया इस दंगे में 1 व्यक्ति की मौत हुई वहीँ 3 व्यक्ति घायल हुए, जिन्हे पुलिस अस्पताल ले गयी

और आप जानकर चौंक जायेंगे की घायलों में से 1 व्यक्ति का नाम निकला “अकबर” अब आप स्वयं सोचिये की मीडिया के मुताबिक जब राजपूत और दलित आपस में लड़ रहे है, तो दलित का भेष बनाकर “अकबर” यहाँ क्या कर रहा है
अब देखिये सुदर्शन न्यूज़ की पड़ताल में क्या सामने आया है, इस भीम आर्मी के पीछे कौन है

ये भीम आर्मी असली में जिहादी आर्मी निकली कोई दलित नहीं बल्कि स्थानीय जिहादी नेता और बड़ा भूमाफिया और कई अन्य गैरकानूनी धंधे चलाने वाला बसपा नेता हाजी इकबाल कर रहा है भीम आर्मी को फंडिंग और दलितों का भेष बनाकर “अकबर” कर रहे है सहारनपुर में दंगे, दलितों और राजपूतों का संघर्ष दिखाकर हिन्दू समाज को तोड़ने की साजिश तो है ही, साथ ही मायावती भी दलितों की अपनी घृणित राजनीती करने में लगी है

Loading...

Leave a Reply