भारत में भी हैं दुनिया के सबसे अच्छे सेल्फी पॉइंट जानिए कंहा हैं

0

सेल्फी का चलन तेजी से बढ़ गया है। दिन-समय और मौका देखे बिना खुद की तस्वीर खींचने का यह चलन विदेशों से भारत आया, तो तेजी से लोकप्रिय भी हुआ। अब तो सेल्फी के लिए खास जगहों का चयन भी होने लगा है। विदेशों में तो लोग सेल्फी के लिए कई किमी का सफर कर पहुंचते हैं और सेल्फी क्लिक करते हैं। इसी तर्ज पर भारत में भी नया ट्रेंड बन गया है किसी हिल स्टेशन पर जाकर सेल्फी क्लिक करना। तो आप भी देर मत कीजिए, दोस्तों को इकट्ठा कीजिए, अपने बैग पैक कीजिए, कैमरा साथ रखिए और निकल जाइए उन जगहों पर जहां के नजारे आपकी सेल्फी को और भी खूबसूरत बना देंगे।

डल झील, कश्मीर

इसे ‘ज्वेल कॉउन ऑफ कश्मीर’ बुलाया जाता है। श्रीनगर की खूबसूरत वादियों में बनी डल झील अपने साफ पानी के साथ-साथ बेहतरीन नक्काशीदार शिकारों की वजह से जानी जाती हैं। झील के बीच बने इन शिकारों की खिड़कियों से श्रीनगर की वादियां भी कुछ ज्यादा ही खूबसूरत दिखती है। पर्यटकों के लिए यूं भी कश्मीर और खासकर डल झील देखने का अनुभव अनूठा है, सेल्फी क्लिक करने के लिए भी यह जगह कम खूबसूरत स्पॉट नहीं

फूलों की घाटी, उत्तराखंड

हिमालय की गोद में बसे उत्तराखंड में यूं तो कई नजारे हैं, जो प्रकृति के बड़े दिल की गवाही देते हैं लेकिन फूलों की घाटी कुछ खास है। नेशनल पार्क घोषित हो चुका यह क्षेत्र देश और दुनिया के अनगिनत पर्यटकों की मेजबानी करता है। 90 किमी क्षेत्रफल में फैला यह क्षेत्र राष्ट्रीय धरोहरों में भी शामिल है। 3 किमी लंबी और आधा किमी चौड़ी फूलों की घाटी में घूमते हुए सेल्फी क्लिक करना आपके लिए यादगार हो सकता है।

पिछोला झील, उदयपुर, राजस्थान

1362 ईसवी में बनी इस कृत्रिम झील की खूबसूरती रेतीले राजस्थान को ठंडक पहुंचाती है। यहां की खूबसूरती देखनी हो, तो झील किनारे के घाट या झील के बीचों-बीच बने होटल की छत से देखिए, नजारा यादगार बन जाएगा। झील में विभिन्न प्रजाति के पक्षियों का डेरा हमेशा बना रहता है। और बात सेल्फी की हो, तो यहां क्लिक की गई सेल्फी को आप संजोकर भी रखेंगे।

दज़ुको घाटी, नागालैंड

दज़ुको घाटी मणिपुर और नागालैंड की सीमा पर सेनापति नगर में स्थित एक बहुत खूबसूरत घाटी है। खास बात यह है कि यहां और सिर्फ यहां दज़ुको लिली फूल पाए जाते हैं। युवाओं के बीच बेहद लोकप्रिय इस स्थान को देखने दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां आप ट्रैकिंग का आनंद भी ले सकते हैं। और अगर बसंत या सर्दियों में जाएं, तो यह जगह किसी जन्नत से कम नहीं लगेगी। इतनी खूबसूरत जगह पर सेल्फी क्लिक करने का ऑप्शन बेहतरीन होगा।

माजुली, असम

माजुली जिसे असमिया भाषा में माजोली भी कहते हैं, असम के ब्रह्मपुत्र नदी में स्थित एक नदी द्वीप है। जोरहाट से 20 किमी की दूरी पर स्थित यह जगह कितनी खूबसूरत है, तस्वीर से ही अंदाजा लगाया जा सकता है। अब सोच कर देखिए अगर इस नजारे के साथ आपकी सेल्फी हो, तो कैसी रहेगी?

पेनोंग झील, लद्दाख

अद्भुत, अविश्वसनीय और अलौकिक। लद्दाख की पेनोंग झील देखकर आप यही कहेंगे। दुनिया बनाने वाले ने यहां खूबसूरती की हर नियामत लुटाई है। अपनी इसी खूबसूरती के लिए पेनोंग झील देखने दुनिया भर के पर्यटक आते हैं। बात सेल्फी की हो, तो यहां जाना तो पक्का बनता है।

बनारस, उत्तर प्रदेश

भगवान विश्वनाथ की इस नगरी को पवित्र शहर का दर्जा मिला हुआ है। अपने समृद्ध इतिहास के लिए गलियों में बसने वाला असली बनारस और हमेशा भीड़ से घिरे गंगा तट सेल्फी के लिए अच्छा स्पॉट बन गया है। इस शहर की पौराणिक मान्यता तो है ही, रास्तों पर घूमते हुए आपको कई बार ऐसे मौके मिलेंगे, जहां आपका मन कैमरा क्लिक करने का मन करेगा। खास बनारसी पान की दुकानें, सड़क किनारे खाने-पीने की दुकानें और शाम की गंगा आरती, विश्वास मानिए सेल्फी के तौर पर यहां कई पल आप कैमरे में कैद कर सकते हैं।

जैसलमेर का रेगिस्तान, राजस्थान

राजस्थान के छोर पर बसे जैसलमेर का रेगिस्तान दूर-दूर तक रेत के टीलों से पटा पड़ा है। तेज हवा, आंधियों के चलते टीले भी अपनी जगह बदलते हैं। शांति ऐसी कि कहीं और नहीं मिल सकती। धूल भरी आंधियों से सामना करते हुए ऊंट की सवारी और सेल्फी क्रेज, ये अनुभव भी अनूठा ही होगा।

नूरानंग झरना, अरुणाचल प्रदेश

समुद्र तल से तकरीबन 6000 फिट ऊपर यह झरना देखने पर ऐसा लगता है जैसे पहाड़ों के बीच चांदी बह रही हो। तेज रफ्तार पानी की धार का शोर और प्रकृति के अप्रतिम खूबसूरती समेटे यह जगह अद्भुत है। तवांग शहर से 35 किमी की दूरी पर स्थित नूरानंग झरने को जुंग झरने के नाम से भी जाना जाता है। नूरानंग झरने का सफेद ठंडा पानी 100 मीटर से भी अधिक ऊंचाई से मूसलधार बारिश के रूप में गिरता है। और तो और, ये इतना खूबसूरत है कि 1997 में बनी शाहरुख खान और माधुरी दीक्षित की फिल्म ‘कोयला’ की शूटिंग भी यहां हुई है। सेल्फी क्लिक के लिए यह जगह शानदार है।

कच्छ, गुजरात

कभी खत्म न होने वाला, बेहद शांत और जहां हर कोई जाना चाहे, उसे कच्छ का रण कहते हैं। गुजरात का यह मरुस्थल सूर्योदय और सूर्यास्त के अपने खास नजारे के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। 45652 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैले गुजरात के कच्छ जिले का अधिकांश हिस्सा रेतीला और दलदली है। जखाऊ, कांडला और मुन्द्रा यहां के मुख्‍य बंदरगाह हैं। इसके अलावा यहां अनेक ऐतिहासिक इमारतें, मंदिर, मस्जिद, हिल स्टेशन आदि पर्यटन स्थलों को देखा जा सकता है। ऐसी शानदार जगह अगर आप सेल्फी क्लिक करें, तो उसका अंदाज ही जुदा होगा।

बेलम गुफाएं, आंध्र प्रदेश

आंध्रप्रदेश में कुरनूल से 106 किलोमीटर दूर बेलम गुफाएं मेघालय की गुफाओं के बाद भारतीय उपमहाद्वीप की दूसरी सबसे बड़ी प्राकृतिक गुफाएं हैं। इन्हें मूल रूप से तो 1854 में एचबी फुटे ने खोजा था लेकिन दुनिया के सामने 1982 में यूरोपीय गुफाविज्ञानियों की एक टीम ने इन्हें मौजूदा स्वरूप में पेश किया। गुफा के अंदर ताजे पानी की कई धाराएं बहती हैं। इन गुफाओँ में उतरकर सेल्फी क्लिक कर किसी रोमांच से कम नहीं होगा।

Loading...

Leave a Reply