बवासीर का इलाज और बाबा रामदेव के नुस्खे

0
bawasir-ka-gharelu-ilaj
bawasir-ka-gharelu-ilaj

बवासीर का इलाज : अगर बार बार बवासीर होती हैं और मस्से बाहर आ कर बहुत कष्ट देते हो तो ये घरेलु उपचार और मस्सो पर लगाने के लिए ये तेल घर पर बनाये बहुत ही लाभदायक हैं। दो सूखे अंजीर शाम को पानी में भिगो दे। इनको सुबह खाने के एक घंटे के बाद खाएं. और सुबह भी 2 अंजीर पानी में भिगो दें. सवेरे के भगोये दो अंजीर शाम चार-पांच बजे खाएं। एक घंटा आगे पीछे कुछ न लें। आठ दस दिन के सेवन से बादी और खुनी हर प्रकार की बवासीर ठीक हो जाती है।

बवासीर को जड़ से दूर करने के लिए और पुन: न होने के लिए छाछ सर्वोत्तम है। दोपहर के भोजन के बाद छाछ में डेढ़ ग्राम ( चौथाई चम्मच ) पीसी हुई अजवायन और एक ग्राम सेंधा नमक मिलाकर पीने से बवासीर में लाभ होता है और नष्ट हुए बवासीर के मस्से पुन: उत्प्न्न नही होते। इसके साथ में मूली बहुत रामबाण है बवासीर में, मूली को पत्तो सहित हर रोज़ खाने से बवासीर बवासीर का इलाज में तुरंत आराम मिलता है

  • बवासीर का इलाज : आज की इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में कई लोग बवासीर से पीड़ित हैं. बवासीर का मुख्य कारण अनियमित खानपान और कब्ज है.  आइये जानते हैं बवासीर के लिए बाबा रामदेव के नुस्खे
  • बवासीर में मलद्वार के आसपास की नसें सूज जाती हैं. यह दो तरह का होता है : 1. अंदरूनी बवासीर- इसमें सूजन को छुआ नहीं जा सकता है, लेकिन इसे महसूस किया जा सकता है. 2. बाहरी बवासीर- इसमें सूजन को बाहर से महसूस किया जा सकता है. इसकी पहचान बहुत हीं आसान है.
  • अगर आपको भी मल त्यागते वक्त बहुत दर्द होता है, मलद्वार से खून आता है या खुजली होती है, तो आपको बवासीर है.
    तो आइए कुछ घरेलू कारगर उपाय or और बवासीर का इलाज जानते हैं, जिनसे आप बवासीर से मुक्ति पा सकते हैं.
    बवासीर का देशी ( घरेलू ) इलाज :
  • रेशेदार चीजें नियमित खाना शुरू कीजिए, इन्हें अपने दैनिक भोजन का एक आवश्यक अंग बना लीजिए.
  • हर दिन 8-10 ग्लास पानी जरुर पिएँ
  • खाना समय से खाएँ.
  • रात में 100 gram किशमिश पानी में फूलने के लिए छोड़ दें. और फिर सुबह में जिस पानी में किशमिश
    को फुलाया है, उसी पानी में किशमिश को मसलकर खाएँ. कुछ दिनों तक लगातार इसका उपयोग करना
    बवासीर का इलाज में अत्यंत लाभ करता है.
  • 50 gram बड़ी इलायची लीजिए और इसे भून लीजिए. जब यह ठंडी हो जाए, तो इसे अच्छी तरह से पीस लीजिए.
    और फिर हर दिन सुबह खाली पेट में इसे कुछ दिनों तक नियमित पिएँ. यह आपको बहुत फायदा पहुंचाएगा.
  • बवासीर के ऊपर अरंडी का तेल लगाने से राहत मिलती है
    • एक चम्मच मधु में ¼ चम्मच दालचीनी का चूर्ण मिलाकर खाने से फायदा पहुँचता है.
    • अगर आपको बवासीर है, तो आपको खट्टे, मिर्ची वाले, मसालेदार और चटपटे खाने से कुछ दिनों
      के लिए परहेज करना पड़ेगा. जबतक कि आपका बवासीर पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है.
    • डेढ़ से दो लीटर मट्ठा लीजिए और इसमें 50 gram जीरा पाउडर और थोड़ा सा नमक मिला लीजिए.
      और जब-जब आपको प्यास लगे तो पानी की जगह इस मट्ठे को पिएँ. कुछ दिनों तक ऐसा करने से
      बवासीर का मस्सा कम हो जाता है.

बवासीर का अचूक इलाज

बवासीर ठीक करने के घरेलू नुस्खे

शरीर के निचले रेक्टम की तरफ गूदे में सूजन हो जाए तो यह बवासीर का रूप ले सकती है। इन्हें पाइल्स या हेमोर्रोइड्स भी कहा जाता है। बवासीर दो तरह की होती है-भीतरी एवं बाहरी। भीतरी बवासीर की दशा में अंदरूनी रक्तपात होता है जिसमें दर्द नहीं होता। बाहरी बवासीर में इंसान को दर्द महसूस होता है क्योंकि इसमें गूदे में सूजन की वजह से काफी पीड़ा होती है। बवासीर के कई कारण हो सकते हैं जिनमें प्रमुख हैं वंशानुगत दशा,खानपान सही न होना, फाइबर की कमी गूदे की कैविटी में असामान्य बढ़ोत्तरी ,लम्बे समय तक बैठे रहना और कब्ज़ की समस्या। बवासीर को ठीक करने के लिए नीचे दिए गए घरेलू उपचारों में से किसी का भी सहारा लिया जा सकता है।

बवासीर के मस्से का रामबाण इलाज

खुनी बवासीर का रामबाण इलाज

पुरानी बवासीर का इलाज बहुत कठिन होता लेकिन नारियल कि जटाओं के प्रयोग से दोनों ही तरह की बवासीर का इलाज संभव है. बादी या खुनी बवासीर जो भी हो, दोनों में ही नारियल की जटाओं का भस्म बहुत कारगर उपाय है. ताज़े मट्ठे में एक नारियल की जटाओं को जलाकर राख या भस्म बना लें और इस ताज़े मट्ठे में मिलाकर सुबह खाली पेस्ट 3 दिन नियमित रूप से पियें. यह बवासीर का शर्तिया इलाज है

अंजीर से पाइल्स का प्राकृतिक उपचार

अंजीर शरीर के लिए बहुत फायदेमंद मेवों में से एक है, अगर आपको बवासीर के साथ मस्सों की भी शिकायत हो तो रात में 3 अंजीर पानी में भिगों दें और सुबह खली पेस्ट इसका सेवन कर पानी को भी पी लें. इसके आधे घंटे कुछ ना खाएं. रोजाना किया गया यह प्रयोग बवासीर के मस्से (Bavaseer ke masse) में भी लाभ पहुंचाता है

खूनी बवासीर का उपचार

बवासीर के दर्द का इलाज

अगर आपको बवासीर के मस्से हैं और इसकी वजह से बेचैनी महसूस होती है तो जीरे के दानों को पानी के साथ पीसकर लेप बना लें और इसे मस्सों वाली जगह पर लगायें. इससे जलन और पीड़ा शांत होती है. अगर आपको खुनी बवासीर का इलाज (Khooni bavaseer ka ilaaj) घर पर करना है जो जीरे को भुनकर मिश्री के साथ पीस लें और इसे दिन में 2 से 3 बार फांकें

बवासीर का आयुर्वेदिक इलाज

एलोवेरा में काफी जलनरोधी गुण होते हैं, जिसकी वजह से यह बवासीर की समस्या से छुटकारा दिलाने का काफी बेहतरीन तरीका साबित होता है। यह काफी आसान तरीकों से बवासीर के लक्षणों से आपको निजात दिलाता है। एलो वेरा की एक पत्ती लें तथा इसके सारे काँटों को तोड़कर फेंक दें। इसके बाद इसे फ्रिज (fridge) में रख दें। इसके बाद ठंडी सेंक का दोगुना प्रभाव प्राप्त करने के लिए इसका प्रयोग प्रभावित भाग पर करें। एलो वेरा जलन और सूजन को कम करने में आपकी मदद करता है। आप सूजी हुई धमनियों को ठीक करने के लिए एलो वेरा की पत्तियों से निकाले गए जेल (gel) का प्रयोग कर सकते हैं।

बवासीर के घरेलू उपचार छाछ से

छाछ बवासीर के इलाज का एक बेहतरीन विकल्प है। एक चौथाई अजवाइन का पाउडर और 1 ग्राम काला नमक 1 गिलास छाछ में मिश्रित करें। रोजाना दोपहर का खाना खाने के बाद एक गिलास छाछ का सेवन करें। इससे आपको बवासीर की समस्या से काफी आराम मिलेगा। छाछ आपको दर्द से बचाता है और शरीर में नमी का संचार करता है।

बाबा रामदेव का नुस्खा

जो बवासीर का रोग हैं, पिछले 20 सालों में हमने लाखो लोगों पर प्रयोग किया हैं. नींबू को ठन्डे दूध (धारोष्ण दूध) के साथ सुबह सुबह खाली पेट पीला दें (lemon and milk for piles home remedies). एक नींबू, ठंडा दूध (ठंडा दूध यानी उसका तापमान ठंडा होना चाहिए) एक बात और याद रखे फ्रिज का ठंडा दूध इस्तेमाल न करे, वैसे तो आपको इस बात का हमेशा ही विशेष ध्यान रखना चाहिए की फ्रिज में रखे ठन्डे दूध का सेवन बिलकुल भी न किया जाए

इसके बदले अगर किन्ही को ठंडा दूध पीना पसंद हैं तो वहां दूध को थाली या बड़े बर्तन में रख कर ठंडा कर के सेवन कर सकते हैं. तो हम बात कर रहे थे बवासीर के घरेलु नुस्खे की, तो एक नींबू को एक कप ठन्डे दूध में सुबह खाली पेट पीजिये.

बवासीर का इलाज

ऐसे लगातार 7 दिन प्रयोग करने से, (वैसे तो तीन ही दिन में लोगों की बवासीर अच्छी हो जाती हैं, लेकिन 7 दिन यह प्रयोग करने से हमने देखा करीब-करीब 99% लोगों की बवासीर अच्छी हो जाती हैं (अगर आपका बवासीर 7 दिन में पूरी तरह ठीक न हो तो इन नुस्खों का प्रयोग आप लम्बे समय तक कर सकते हैं जब तक आपका पाइल्स ठीक न हो जाए)

बवासीर के लिए रामदेव बाबा का उपचार

घरेलु उपचार के तौर पर आप 100 ग्राम हरड़, 100 शुद्ध रसोत इन सभी का पाउडर कर 1-2 ग्राम सुबह शाम छाछ के साथ लें, बहुत लाभ होगा. नारियल की दाढ़ी (यानी नारियल का छिलका) का पाउडर कर 1-2 ग्राम को छाछ के साथ नियमित रूप से कुछ दिनों तक ले. खुनी बवासीर का इलाज में 100% लाभ होगा. आंवला ओलिवेरा जूस नियमित रूप से पिने से भी बवासीर, फीटसूला पूरी तरह ठीक हो जाते हैं. तली हुई चीजों से बचे, गरम चीजों से भी बचे, हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करे, सुबह उठकर के पानी जरूर पिए, बेंगन गरम मसाले ज्यादा मिर्च, अचार इन से बचेंगे तो आपको बवासीर की बीमारी से जल्द ही छुटकारा मिलेगा

 

Loading...

Leave a Reply