बरखा दत्त ने आज खुद ही ट्विटर पर अपने आप को बेइज्जत कर डाला जरूर देखें

0

बरखा दत्त ने ट्विटर पर आज अपनी एक तस्वीर शेयर की! बड़ा दुःख जताया कि कश्मीर में अभी भी कर्फ्यू है! भैया, पत्थर, पेट्रोल बम और ग्रेनेड फेंकने को किसने कहा था? आतंकी बुरहान वानी का जनाज़े में जाने के लिए किसने कहा था? खैर, आइये देखते हैं ऐसा क्या शेयर किया बरखा ने की वो खुद अपने-आप, expose हो गई!

barkha

तो बरखा दत्त को एक दयालु मुस्लिम युवक ने लिफ्ट दी! वाह! ये तो आज की हैडलाइन होनी चाहिए थी! ऐसे राह्चालते लोगों को लिफ्ट देने वालों लोगों पर इंडियन आर्मी पैल्लेट गन चलाती है? बरखा दत्त जैसी शातिर pressitute, ऐसी बेवकूफी करेगी, उम्मीद नहीं थी ! लेकिन क्या जानते हैं की इस फोटो को देख कर भी, वामपंथी, aaptards और मुर्ख sickulars उसकी आरती तक उतारने लगेंगे!

अब presstitute बरखा से तीन सवाल:
पहला: मैडम बरखा, कर्फ्यू है तो तुम बाहर खुले-आम क्यों घूम रही हो? क्या ये गैर-क़ानूनी काम नहीं है?

तुम वहां बतौर पत्रकार हो या भटके-हुए-नौजवानों के साथ, भटकी-हुयी-नवयुवती बन गई हो?

दूसरा: ये स्कूटी वाला ‘दयालु young-man’ कर्फ्यू में क्या कर रहा है? क्या तुम्हें इसे अन्दर रहने के लिए नहीं कहना चाहिए? क्या तुम इसकी जान खतरे में नहीं डाल रही?

और हाँ, गलती से कहीं ये आतंकी निकला और इसको शाम तक किसी फौजी ने टपका डाला तो तुम्हारे लिए तो साल भर के लिए कई शो करने का इंतजाम हो जाएगा, हैना?

तीसरा: तुम दोनों की फोटो कौन ले रहा है? ये भी कोई दयालु young man है? या दो स्कूटियाँ हैं? ठीक ठीक बताओ!

या बस यूँ ही किसी ने गलती से फोटो ले ली, फिर तुम्हें गलती से वो फोटो मिल गई, फिर तुमने गलती से ट्विटर पर डाल दी? या अचानक से तुम्हारे किसी रिश्तेदार ने तुम्हें spot कर लिया? तुम celebrity journalist जो ठहरी! (pun intended).और तो और इस नवयुवक का हेलमेट कहाँ है? कहीं गलती से गिर गया, और चोट लग गई, तो फिर सेना को दोष दोगी! ढोंगी कहीं की!

समझ नहीं आता की आखिर क्यों बरखा दत्त जैसी presstitute को हमारे देश में खुले-आम घुमने की इजाजत है! ये पिछले एक दो साल से नहीं, दशकों से इस देश में जहर घोल रही है, पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी ISI का एजेंडा आगे बढ़ा रही है! इसका मुहं बंद करना ज्यादा मुश्किल नहीं! इसे पैसे देने वाले टेलीविज़न चैनलों को सबक सिखाना भी मुश्किल नहीं! लेकिन, सबसे मुश्किल काम है उन लोगों को ठीक करना जो बरखा जैसे presstitutes के द्वारा परोसे वामपंथी व्यंजन रूपी जहर से ग्रसित हैं! इन लोगों में पढ़े लिखे लोग भी हैं, हिन्दू भी हैं! और सबसे अधिक, वामपंथी हैं!

Loading...

Leave a Reply