अगर हिन्दू आज जाग गए तो इंडिया बच जायेगा वरना तो मुसलमानो का गुलाम हो जायेगा : एक पाकिस्तानी

0

पाकिस्तान में 98 फीसदी मुस्लमान है, अधिकतर पाकिस्तानी हिन्दुओ से नफरत करते है ये पूरी दुनिया जानती है पर फिर भी पाकिस्तान में 2-4 तारिक फतह टाइप के मुस्लिम है जो सच जानते है और उन्ही में से एक ये हैं जो साफगोई से ऐसी चीज बता रहे है जिसे हर भारतीय को कान खोलकर सुनना चाहिए ये पाकिस्तान के लेखक मुहम्मद अनवर शेख हैं

आप स्वयं देख सकते है, अंग्रेजी में बोल रहे है, सबटाइटल है, नीचे हम पूरा अनुवाद हिंदी में भी लिख रहे है

इनसे जब सवाल किया गया की क्या इस्लाम इंडिया के लिए एक ख़तरा है तो उसके बाद इन्होंने बोलना शुरू किया, जो इन्होंने बाते कहीं वो इस प्रकार है

* मैं जब पैदा हुआ था तब आप पैदा नहीं हुए थे, 1947 की तरह एक बार फिर से क्रांति होने की सम्भावना है

* कुरआन के चैप्टर 2 में कहा गया है “अल्लाह गैर मुस्लिमो का दुश्मन हैं, और जो अल्लाह को मानते है वो सभी गैर            मुस्लिमो को ख़त्म करेंगे”

* भारत में मुस्लिमो की जनसँख्या तेजी से बढ़ रही है, और वो किसी भी गैर मुस्लिम के साथ नहीं रह सकते, उन्होंने            पंजाब(पाकिस्तानी पंजाब) से गैर मुस्लिमो को ख़त्म कर दिया, यहाँ तक की कश्मीर से भी गैर मुस्लिमो को ख़त्म कर        दिया गया, इसपर उनको कोई पछतावा नहीं

* वो फिर से मांग करेंगे की हमे इंडिया का ये हिस्सा चाहिए, और वो ऐसा करते रहेंगे, और फिर से एक सिविल वॉर होगा

* ऐसा सिर्फ इंडिया में होगा ऐसा नहीं है, ऐसा पूरी दुनिया में होगा क्योंकि “इस्लाम में लोकतंत्र नाम की कोई चीज नहीं है,    इस्लाम कहता है की अल्लाह का कानून(शरिया) होगा और लोकतंत्र कहता है की लोगों का कानून होगा”

* जब मुसलमानो की इंडिया में फिर से जनसंख्या बढ़ेगी तो वो जिहाद का इस्तेमाल करेंगे, पर मुझे लगता है की हिन्दू भी      इसका सामना कर लेंगे, उस समय लोकतंत्र नहीं रहेगा सिविल वॉर जैसा होगा, अगर हिन्दू उसका सामना कर पाए तो      वो रहेंगे नहीं तो वो हमेशा के लिए मुस्लिमो के गुलाम हो जायेंगे

इसके बाद इन्होंने कहा की

* हिन्दुओ को सामना करने के लिए कुछ भी करना होगा, चाहे वो फिजिकल पावर हो या इंटेलेक्चुअल पावर, आजकल        इंटेलेक्चुअल पावर अधिक महत्व्यपूर्ण है

* बढ़िया ये ही रहेगा की सभी साथ रहे, पर मुसलमानो का नियम है की वो किसी गैर मुस्लिम के साथ नहीं रह सकते अगर    उन्हें रहना भी हो तो भी उनको अपने शरिया लो लागू करना होता है इस तरह 1947 के हालात फिर से होने की            सम्भावना है

Loading...

Leave a Reply