अब अजान पर रोक, मस्जिदों में नहीं बजेंगे लाउडस्पीकर

1

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने लाउडस्पीकर की आवाज सीमित करने वाले बिल को मजूरी दे दी हैं। इस बिल के पास होने के बाद मस्जिदों में अजान पर रोक लग जाएगी।

एक तरफ जहां भारत में भ्रष्टाचार और काले धन पर लगाम लगाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी 500 और 1000 रूपये के नोटों को बैन कर दिया हैं तो वहीं दूसरी ओर इजराइल में अजान पर बैन लगा दिया गया हैं। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को इसका एलान किया। इजराइली प्रधानमंत्री ने लाउडस्पीकर की आवाज सीमित करने वाले बिल को अपनी मंजूरी दे दी हैं। इजरायली मीडिया के मुताबिक इस बिल के पास होने के बाद मस्जिदों में अजान पर रोक लग जाएगी।

रविवार को हुए कैबिनेट बैठक में नेतन्याहू ने बिल के ड्राफ्ट पर चर्चा की और कहा कि वह इस बिल का समर्थन करेंगे। नेतन्याहू ने कैबिनेट बैठक शुरू होते ही कहा ‘मुझे याद नहीं कितनी बार लेकिन इजरायली नागरिकों ने कई बार प्रार्थना स्थलों में होने वाले शोर-शराबे से परेशानी की शिकायत मुझसे की है। इसलिए यह कदम उठाया जा रहा हैं।’ हालांकि, ड्राफ्ट बिल में सभी पूजा स्थलों का जिक्र किया गया है लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि यह बिल एक विशेष समुदाय को टारगेट करने के लिहाज से तैयार किया गया है।

इजरायल डिमॉक्रेसी इंस्टीट्यूट नाम के थिंक टैंक ने इस प्रस्ताव के खिलाफ आवाज उठाई है। थिंक टैंक का कहना है कि इस बिल को लाने का मकसद शोर-शराबे से बचना नहीं है बल्कि अरब और यहूदियों के बीच के फर्क को बढ़ाना है। इजरायल की कुल जनसंख्या में 17.5 फीसदी अरब आबादी है। इनमें से अधिकांश मुस्लिम हैं। मुस्लिम समुदाय हमेशा से इजरायल में बहुसंख्यक यहूदियों पर भेदभाव का आरोप लगाते रहे हैं।

गौरतलब है कि लाउडस्पीकर का उपयोग सबसे ज्यादा मस्जिदों में होता है। इजराइल में दिन भर में पांच बार नमाज के लिए अजान दी जाती है।

Loading...

1 COMMENT

Leave a Reply